***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,***

वन्दे मातरम दोस्तों,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,
कोई फाकों पे जिन्दा है, कोई खा खा के मरता है,***
किसी के तन पे है मलमल, किसी का तन बदन नंगा,
किसी की अर्थी है डोली, कोई बे- कफन मरता है,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,***
किसी के महल अटटारे, गगन से करते हैं बातें,
कोई कमबख्त देखो रे, दो गज जमी को तरसता है,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,***
कोई सोने के चम्मच से, चाँदी के बर्तन मैं है खाता,
कोई कर कर के मर जाता, नही पर पेट भरता है,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,***
किसी को तलाश खुशियों की, यंहां हर वक्त रहती है,
किसी के अंगने मै देखो, ख़ुशी का सावन बरसता है,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,
किसी की आँख में देखो, कभी आंसू ना आते हैं,
किसी को हंसने का देखो, महज एक ख्वाव दीखता है,
***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,
कोई फाकों पे जिन्दा है, कोई खा खा के मरता है,***

Rakesh gupta

लेखक कविताएं व ब्लॉग लिखता रहा है। संघर्ष NGO का फाउंडर महासचिव है, 30 साल से फ्रीलांसर पत्रकार है। है लेखक क्या चाहता है लेखक के शब्द मेरे देश मे भुखमरी, बेरोजगारी, असुरक्षा और भय का वातावरण खत्म होना चाहिए। भरष्टाचारियों और अपराधियों के लिए कठोर कानून होना चाहिये। सभी को अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए मगर पुलिस को कर्तव्य पालन में अधिक कठोरता दिखानी होगी।

You May Also Like

2 thoughts on “***अजब तेरी कारीगरी रे करतार, अजब तू खेल रचता है,***

  1. किसी के महल अटटारे, गगन से करते हैं बातें,
    कोई कमबख्त देखो रे, दो गज जमी को तरसता है,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *